koi kisi se khush ho aur vo bhi baarha ho ye baat to galat hai | कोई किसी से ख़ुश हो और वो भी बारहा हो ये बात तो ग़लत है - Nida Fazli

koi kisi se khush ho aur vo bhi baarha ho ye baat to galat hai
rishta libaas ban kar maila nahin hua ho ye baat to galat hai

vo chaand raahguzaar ka saathi jo tha safar tha mo'jiza nazar ka
har baar ki nazar se raushan vo mo'jiza ho ye baat to galat hai

hai baat us ki achhi lagti hai dil ko sacchi phir bhi hai thodi kacchi
jo us ka haadisa hai mera bhi tajurba ho ye baat to galat hai

dariya hai bahta paani har mauj hai rawaani rukti nahin kahaani
jitna likha gaya hai itna hi waqia ho ye baat to galat hai

ye yug hai kaarobaari har shay hai ishtehaari raja ho ya bhikaari
shohrat hai jis ki jitni itna hi martaba ho ye baat to galat hai

कोई किसी से ख़ुश हो और वो भी बारहा हो ये बात तो ग़लत है
रिश्ता लिबास बन कर मैला नहीं हुआ हो ये बात तो ग़लत है

वो चाँद रहगुज़र का साथी जो था सफ़र था मो'जिज़ा नज़र का
हर बार की नज़र से रौशन वो मो'जिज़ा हो ये बात तो ग़लत है

है बात उस की अच्छी लगती है दिल को सच्ची फिर भी है थोड़ी कच्ची
जो उस का हादिसा है मेरा भी तजरबा हो ये बात तो ग़लत है

दरिया है बहता पानी हर मौज है रवानी रुकती नहीं कहानी
जितना लिखा गया है इतना ही वाक़िआ हो ये बात तो ग़लत है

ये युग है कारोबारी हर शय है इश्तिहारी राजा हो या भिकारी
शोहरत है जिस की जितनी इतना ही मर्तबा हो ये बात तो ग़लत है

- Nida Fazli
1 Like

Eid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Eid Shayari Shayari