har ghadi khud se uljhana hai muqaddar mera | हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा - Nida Fazli

har ghadi khud se uljhana hai muqaddar mera
main hi kashti hoon mujhi mein hai samundar mera

kis se poochoon ki kahaan gum hoon kai barson se
har jagah dhoondhta firta hai mujhe ghar mera

ek se ho gaye mausamon ke chehre saare
meri aankhon se kahi kho gaya manzar mera

muddatein beet gaeein khwaab suhaana dekhe
jaagta rehta hai har neend mein bistar mera

aaina dekh ke nikla tha main ghar se baahar
aaj tak haath mein mahfooz hai patthar mera

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा
मैं ही कश्ती हूँ मुझी में है समुंदर मेरा

किस से पूछूँ कि कहाँ गुम हूँ कई बरसों से
हर जगह ढूँढता फिरता है मुझे घर मेरा

एक से हो गए मौसमों के चेहरे सारे
मेरी आँखों से कहीं खो गया मंज़र मेरा

मुद्दतें बीत गईं ख़्वाब सुहाना देखे
जागता रहता है हर नींद में बिस्तर मेरा

आइना देख के निकला था मैं घर से बाहर
आज तक हाथ में महफ़ूज़ है पत्थर मेरा

- Nida Fazli
1 Like

Kashti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Kashti Shayari Shayari