ain mumkin hai meri baat zara si nikle | ऐन मुमकिन है मिरी बात ज़रा सी निकले - Nilofar Noor

ain mumkin hai meri baat zara si nikle
koi tasveer mere dil se tumhaari nikle

aaj aangan mein tire hijr ka suraj nikla
aaj mumkin hai mere zakham se kirchi nikle

us ne is shart pe rone ki ijaazat di hai
aah nikle na labon se koi sisaki nikle

jaan-kani vo ki farishte bhi panaahen maange
aap aayein to meri aakhiri hichki nikle

aise nikla hai mere bakht ka taara dekho
haath se toot ke bewa ke jyuun choodi nikle

koi aaye mere jeene ka sahaara ban kar
shaakh se phoot ke konpal koi aisi nikle

aaj phir dil mein tire deed ki hasrat jaagi
kaash phir kaam koi tujh se zaroori nikle

ऐन मुमकिन है मिरी बात ज़रा सी निकले
कोई तस्वीर मिरे दिल से तुम्हारी निकले

आज आँगन में तिरे हिज्र का सूरज निकला
आज मुमकिन है मिरे ज़ख़्म से किरची निकले

उस ने इस शर्त पे रोने की इजाज़त दी है
आह निकले न लबों से कोई सिसकी निकले

जाँ-कनी वो कि फ़रिश्ते भी पनाहें माँगे
आप आएँ तो मिरी आख़िरी हिचकी निकले

ऐसे निकला है मिरे बख़्त का तारा देखो
हाथ से टूट के बेवा के ज्यूँ चूड़ी निकले

कोई आए मिरे जीने का सहारा बन कर
शाख़ से फूट के कोंपल कोई ऐसी निकले

आज फिर दिल में तिरे दीद की हसरत जागी
काश फिर काम कोई तुझ से ज़रूरी निकले

- Nilofar Noor
4 Likes

Hasrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nilofar Noor

As you were reading Shayari by Nilofar Noor

Similar Writers

our suggestion based on Nilofar Noor

Similar Moods

As you were reading Hasrat Shayari Shayari