gham ke milte hi likhte hain taazi ghazal | ग़म के मिलते ही लिखते हैं ताज़ी ग़ज़ल - Sabreen nizam

gham ke milte hi likhte hain taazi ghazal
dil ke zakhmon kii hai ik kahaani ghazal

ham na kah paaye jo aapke saamne
aap se kah rahi hai hamaari ghazal

ye jo hamse chhipaate ho jazbaat ko
raaz kholegi ik din tumhaari ghazal

haan kisi kii nahin koii darkaar ab
ban gai hai hamaari ye saathi ghazal

sirf jhumke pe til par atakna nahin
iske aage kii hai ye kahaani ghazal

hain kashish unki baaton mein bhi is kadar
jaise utri ho ik aasmaani ghazal

ग़म के मिलते ही लिखते हैं ताज़ी ग़ज़ल
दिल के ज़ख्मों की है इक कहानी ग़ज़ल

हम न कह पाए जो आपके सामने
आप से कह रही है हमारी ग़ज़ल

ये जो हमसे छिपाते हो जज़्बात को
राज़ खोलेगी इक दिन तुम्हारी ग़ज़ल

हाँ किसी की नहीं कोई दरकार अब
बन गई है हमारी ये साथी ग़ज़ल

सिर्फ झुमके पे तिल पर अटकना नहीं
इसके आगे की है ये कहानी ग़ज़ल

हैं कशिश उनकी बातों में भी इस कदर
जैसे उतरी हो इक आसमानी ग़ज़ल

- Sabreen nizam
0 Likes

Baaten Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Sabreen nizam

Similar Moods

As you were reading Baaten Shayari Shayari