aarzoo deed-e-khuda ki hai | आरज़ू दीद-ए-ख़ुदा की है - Shaad Imran

aarzoo deed-e-khuda ki hai
aarzoo bhi hamne kya ki hai

tujhko dekhen to hosh hi na rahe
adaayein is qadar bala ki hai

kisi soorat tujhe apna bana le
baat lekin teri raza ki hai

tumne jis se bhi ki bewafaai ki
hamne jis se bhi ki wafa ki hai

shayari hogi usi shakhs se shaad
zindagi jisne bhi tabaah ki hai

आरज़ू दीद-ए-ख़ुदा की है
आरज़ू भी हमनें क्या की है

तुझको देखें तो होश ही न रहे
अदाएँ इस क़दर बला की है

किसी सूरत तुझे अपना बना ले
बात लेकिन तेरी रज़ा की है

तुमने जिस से भी की बेवफ़ाई की
हमने जिस से भी की वफ़ा की है

शायरी होगी उसी शख़्स से "शाद"
ज़िन्दगी जिसने भी तबाह की है

- Shaad Imran
15 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shaad Imran

As you were reading Shayari by Shaad Imran

Similar Writers

our suggestion based on Shaad Imran

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari