bas rooh sach hai baaki kahaani fareb hai | बस रूह सच है बाक़ी कहानी फ़रेब है - Shahid Zaki

bas rooh sach hai baaki kahaani fareb hai
jo kuchh bhi hai zameeni zamaani fareb hai

rang apne apne waqt pe khulte hain aankh par
awwal fareb hai koi saani fareb hai

saudaagaraan-e-sholgi-e-shar ke dosh par
mushkeez-gaan se jhaankta paani fareb hai

is ghoomti zameen pe dobara milenge ham
hijrat firaar naql-e-makaani fareb hai

dariya ki asl tairti laashon se poochiye
thehraav ek chaal rawaani fareb hai

ab shaam ho gai hai to suraj ko roiyie
ham ne kaha na tha ki jawaani fareb hai

baar-e-digar samay se kisi ka guzar nahin
aindagaan ke haq mein nishaani fareb hai

ilm ik hijaab aur hawas aaine ka zang
nisyaan haq hai yaad-dehaani fareb hai

tajseem kar ki khwaab ki duniya hai jaavedaan
tasleem kar ki aalam-e-faani fareb hai

shaahid darogh-goi-e-gulzaar par na ja
titli se pooch rang-fishaani fareb hai

बस रूह सच है बाक़ी कहानी फ़रेब है
जो कुछ भी है ज़मीनी ज़मानी फ़रेब है

रंग अपने अपने वक़्त पे खुलते हैं आँख पर
अव्वल फ़रेब है कोई सानी फ़रेब है

सौदागरान-ए-शोलगी-ए-शर के दोश पर
मुश्कीज़-गाँ से झाँकता पानी फ़रेब है

इस घूमती ज़मीं पे दोबारा मिलेंगे हम
हिजरत फ़रार नक़्ल-ए-मकानी फ़रेब है

दरिया की अस्ल तैरती लाशों से पोछिए
ठहराव एक चाल रवानी फ़रेब है

अब शाम हो गई है तो सूरज को रोइए
हम ने कहा न था कि जवानी फ़रेब है

बार-ए-दिगर समय से किसी का गुज़र नहीं
आइंदगाँ के हक़ में निशानी फ़रेब है

इल्म इक हिजाब और हवास आइने का ज़ंग
निस्यान हक़ है याद-दहानी फ़रेब है

तज्सीम कर कि ख़्वाब की दुनिया है जावेदाँ
तस्लीम कर कि आलम-ए-फ़ानी फ़रेब है

'शाहिद' दारोग़-गोई-ए-गुलज़ार पर न जा
तितली से पूछ रंग-फ़िशानी फ़रेब है

- Shahid Zaki
0 Likes

Hijrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahid Zaki

As you were reading Shayari by Shahid Zaki

Similar Writers

our suggestion based on Shahid Zaki

Similar Moods

As you were reading Hijrat Shayari Shayari