main apne hisse ki tanhaai mehfil se nikaloonga | मैं अपने हिस्से की तन्हाई महफ़िल से निकालूँगा - Shahid Zaki

main apne hisse ki tanhaai mehfil se nikaloonga
jo la-haasil zaroori hai to haasil se nikaloonga

mere khun se ziyaada tu meri mitti mein shaamil hai
tujhe dil se nikaloonga to kis dil se nikaloonga

mujhe maaloom hai ik chor darwaaza aqab mein hai
magar is baar main rasta muqaabil se nikaloonga

shabeehon ki tarah qabren mujhe awaaz deti hain
main aks-e-raftagaan aaina-e-gul se nikaloonga

hujoom-e-sahal-angaaraan mere hamraah chalta hai
main jaise raah-e-aasaan raah-e-mushkil se nikaloonga

bharam sab khol ke rakh doonga masnooi mohabbat ke
koi taaza fasana dast-o-mahmil se nikaloonga

tumhein ab tairna khud seekh lena chahiye shaahid
tumhein kab tak main girdaab-e-masaail se nikaloonga

मैं अपने हिस्से की तन्हाई महफ़िल से निकालूँगा
जो ला-हासिल ज़रूरी है तो हासिल से निकालूँगा

मिरे ख़ूँ से ज़्यादा तू मिरी मिट्टी में शामिल है
तुझे दिल से निकालूँगा तो किस दिल से निकालूँगा

मुझे मालूम है इक चोर दरवाज़ा अक़ब में है
मगर इस बार मैं रस्ता मुक़ाबिल से निकालूँगा

शबीहों की तरह क़ब्रें मुझे आवाज़ देती हैं
मैं अक्स-ए-रफ़्तगां आईना-ए-गुल से निकालूँगा

हुजूम-ए-सहल-अँगाराँ मिरे हमराह चलता है
मैं जैसे राह-ए-आसाँ राह-ए-मुश्किल से निकालूँगा

भरम सब खोल के रख दूँगा मसनूई मोहब्बत के
कोई ताज़ा फ़साना दश्त-ओ-महमिल से निकालूँगा

तुम्हें अब तैरना ख़ुद सीख लेना चाहिए 'शाहिद'
तुम्हें कब तक मैं गिर्दाब-ए-मसाएल से निकालूँगा

- Shahid Zaki
0 Likes

Alone Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahid Zaki

As you were reading Shayari by Shahid Zaki

Similar Writers

our suggestion based on Shahid Zaki

Similar Moods

As you were reading Alone Shayari Shayari