yun to nahin ki pehle sahaare banaaye the | यूँ तो नहीं कि पहले सहारे बनाए थे - Shahid Zaki

yun to nahin ki pehle sahaare banaaye the
dariya bana ke us ne kinaare banaaye the

kooze banaane waale ko ujlat ajeeb thi
poore nahin banaaye the saare banaaye the

ab ishrat-o-nashaat ka samaan hoon to hoon
ham ne to deep khauf ke maare banaaye the

di hai usi ne pyaas bujhaane ko aag bhi
paani se jis ne jism hamaare banaaye the

phir yun hua ki us ki zabaan kaat di gai
vo jis ne guftugoo ke ishaare banaaye the

sehra pe baadlon ka hunar khul nahin saka
qatre banaaye the ki sharaare banaaye the

shaahid khafa tha kaatib-e-taqdeer is liye
ham ne zameen pe apne sitaare banaaye the

यूँ तो नहीं कि पहले सहारे बनाए थे
दरिया बना के उस ने किनारे बनाए थे

कूज़े बनाने वाले को उजलत अजीब थी
पूरे नहीं बनाए थे सारे बनाए थे

अब इशरत-ओ-नशात का सामान हूँ तो हूँ
हम ने तो दीप ख़ौफ़ के मारे बनाए थे

दी है उसी ने प्यास बुझाने को आग भी
पानी से जिस ने जिस्म हमारे बनाए थे

फिर यूँ हुआ कि उस की ज़बाँ काट दी गई
वो जिस ने गुफ़्तुगू के इशारे बनाए थे

सहरा पे बादलों का हुनर खुल नहीं सका
क़तरे बनाए थे कि शरारे बनाए थे

'शाहिद' ख़फ़ा था कातिब-ए-तक़दीर इस लिए
हम ने ज़मीं पे अपने सितारे बनाए थे

- Shahid Zaki
1 Like

Aanch Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahid Zaki

As you were reading Shayari by Shahid Zaki

Similar Writers

our suggestion based on Shahid Zaki

Similar Moods

As you were reading Aanch Shayari Shayari