saamne tere hoon ghabraaya hua | सामने तेरे हूँ घबराया हुआ - Shariq Kaifi

saamne tere hoon ghabraaya hua
be-zabaan hone par sharmaaya hua

laakh ab manzar ho dhundlaaya hua
yaad hai mujh ko nazar aaya hua

ye bhi kehna tha bata kar raasta
main wahi hoon tera bhatkaaya hua

main ki ik aaseb ik be-chain rooh
be-wuzoo haathon ka dafnaaya hua

aa gaya phir mashwara dene mujhe
khema-e-dushman ka samjhaaya hua

phir vo manzil lutf kya deti mujhe
main wahan pahuncha tha jhunjhlaaya hua

teri galiyon se guzar aasaan nahin
aaj bhi chalta hoon ghabraaya hua

kuchh naya karne ka phir matlab hi kya
jab tamaashaai hai uktaaya hua

kam se kam is ka to rakhta vo lihaaz
main hoon ik awaaz par aaya hua

mujh ko aasaani se pa saka hai kaun
main hoon tere dar ka thukraaya hua

सामने तेरे हूँ घबराया हुआ
बे-ज़बाँ होने पर शरमाया हुआ

लाख अब मंज़र हो धुँदलाया हुआ
याद है मुझ को नज़र आया हुआ

ये भी कहना था बता कर रास्ता
मैं वही हूँ तेरा भटकाया हुआ

मैं कि इक आसेब इक बे-चैन रूह
बे-वुज़ू हाथों का दफ़नाया हुआ

आ गया फिर मशवरा देने मुझे
ख़ेमा-ए-दुश्मन का समझाया हुआ

फिर वो मंज़िल लुत्फ़ क्या देती मुझे
मैं वहाँ पहुँचा था झुँझलाया हुआ

तेरी गलियों से गुज़र आसाँ नहीं
आज भी चलता हूँ घबराया हुआ

कुछ नया करने का फिर मतलब ही क्या
जब तमाशाई है उकताया हुआ

कम से कम इस का तो रखता वो लिहाज़
मैं हूँ इक आवाज़ पर आया हुआ

मुझ को आसानी से पा सकता है कौन
मैं हूँ तेरे दर का ठुकराया हुआ

- Shariq Kaifi
2 Likes

Awaaz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Awaaz Shayari Shayari