aaj hai kuch sabab aaj ki shab na ja | आज है कुछ सबब आज की शब न जा - Subhan Asad

aaj hai kuch sabab aaj ki shab na ja
jaan hai zer-e-lab aaj ki shab na ja

kya pata phir tire vasl ki sa'aaten
hoon kahaan kaise kab aaj ki shab na ja

chaand kya phool kya sham'a kya rang kya
hain pareshaan sab aaj ki shab na ja

waqt ko kaise tarteeb dete hain log
aa sikha de ye ab aaj ki shab na ja

vo sehar bhi tujhi se sehar thi asad
shab bhi tum se hai shab aaj ki shab na ja

आज है कुछ सबब आज की शब न जा
जान है ज़ेर-ए-लब आज की शब न जा

क्या पता फिर तिरे वस्ल की साअतें
हूँ कहाँ कैसे कब आज की शब न जा

चाँद क्या फूल क्या शम्अ क्या रंग क्या
हैं परेशान सब आज की शब न जा

वक़्त को कैसे तरतीब देते हैं लोग
आ सिखा दे ये अब आज की शब न जा

वो सहर भी तुझी से सहर थी 'असद'
शब भी तुम से है शब आज की शब न जा

- Subhan Asad
1 Like

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Subhan Asad

As you were reading Shayari by Subhan Asad

Similar Writers

our suggestion based on Subhan Asad

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari