ik tira hijr daaimi hai mujhe | इक तिरा हिज्र दाइमी है मुझे - Tehzeeb Hafi

ik tira hijr daaimi hai mujhe
warna har cheez arjee hai mujhe

ek saaya mere taakub mein
ek awaaz dhundti hai mujhe

meri aankhon pe do mukaddas haath
ye andhera bhi raushni hai mujhe

main sukhun mein hoon us jagah ki jahaan
saans lena bhi shayari hai mujhe

in parindo se bolna seekha
ped se khaamoshi mili hai mujhe

main use kab ka bhool-bhaal chuka
zindagi hai ki ro rahi hai mujhe

main ki kaaghaz ki ek kashti hoon
pehli baarish hi aakhiri hai mujhe

इक तिरा हिज्र दाइमी है मुझे
वर्ना हर चीज़ आरजी़ है मुझे

एक साया मिरे तआकुब में
एक आवाज़ ढूँडती है मुझे

मेरी आँखो पे दो मुक़दस हाथ
ये अंधेरा भी रौशनी है मुझे

मैं सुख़न में हूँ उस जगह कि जहाँ
साँस लेना भी शायरी है मुझे

इन परिंदो से बोलना सीखा
पेड़ से ख़ामुशी मिली है मुझे

मैं उसे कब का भूल-भाल चुका
ज़िंदगी है कि रो रही है मुझे

मैं कि काग़ज़ की एक कश्ती हूँ
पहली बारिश ही आख़िरी है मुझे

- Tehzeeb Hafi
21 Likes

One sided love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading One sided love Shayari Shayari