ajeeb khwaab tha us ke badan mein kaai thi | अजीब ख़्वाब था उस के बदन में काई थी - Tehzeeb Hafi

ajeeb khwaab tha us ke badan mein kaai thi
vo ik pari jo mujhe sabz karne aayi thi

vo ik charagh-kada jis mein kuch nahin tha mera
vo jal rahi thi vo qindeel bhi paraai thi

na jaane kitne parindon ne is mein shirkat ki
kal ek ped ki taraqeeb-e-ro-numaai thi

hawaon aao mere gaav ki taraf dekho
jahaan ye ret hai pehle yahan taraai thi

kisi sipaah ne kheme laga diye hain wahan
jahaan ye main ne nishaani tiri dabaai thi

gale mila tha kabhi dukh bhare december se
mere vujood ke andar bhi dhund chhaai thi

अजीब ख़्वाब था उस के बदन में काई थी
वो इक परी जो मुझे सब्ज़ करने आई थी

वो इक चराग़-कदा जिस में कुछ नहीं था मेरा
वो जल रही थी वो क़िंदील भी पराई थी

न जाने कितने परिंदों ने इस में शिरकत की
कल एक पेड़ की तरक़ीब-ए-रू-नुमाई थी

हवाओं आओ मिरे गाँव की तरफ़ देखो
जहाँ ये रेत है पहले यहाँ तराई थी

किसी सिपाह ने ख़ेमे लगा दिए हैं वहाँ
जहाँ ये मैं ने निशानी तिरी दबाई थी

गले मिला था कभी दुख भरे दिसम्बर से
मिरे वजूद के अंदर भी धुँद छाई थी

- Tehzeeb Hafi
14 Likes

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari