kuch zaroorat se kam kiya gaya hai | कुछ ज़रूरत से कम किया गया है - Tehzeeb Hafi

kuch zaroorat se kam kiya gaya hai
tere jaane ka gham kiya gaya hai

ta-qayamat hare bhare rahenge
in darakhton pe dam kiya gaya hai

is liye raushni mein thandak hai
kuch charaagon ko nam kiya gaya hai

kya ye kam hai ki aakhiri bosa
us jabeen par raqam kiya gaya hai

paaniyon ko bhi khwaab aane lage
ashk dariya mein zam kiya gaya hai

un ki aankhon ka tazkira kar ke
meri aankhon ko nam kiya gaya hai

dhool mein at gaye hain saare ghazaal
itni shiddat se ram kiya gaya hai

कुछ ज़रूरत से कम किया गया है
तेरे जाने का ग़म किया गया है

ता-क़यामत हरे भरे रहेंगे
इन दरख़्तों पे दम किया गया है

इस लिए रौशनी में ठंडक है
कुछ चराग़ों को नम किया गया है

क्या ये कम है कि आख़िरी बोसा
उस जबीं पर रक़म किया गया है

पानियों को भी ख़्वाब आने लगे
अश्क दरिया में ज़म किया गया है

उन की आँखों का तज़्किरा कर के
मेरी आँखों को नम किया गया है

धूल में अट गए हैं सारे ग़ज़ाल
इतनी शिद्दत से रम किया गया है

- Tehzeeb Hafi
16 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari