sochna bhi ajeeb aadat hai | सोचना भी अजीब आदत है - Vikas Rana

sochna bhi ajeeb aadat hai
ye bhi to sochne ki soorat hai

ab mujhe aap chhod jaaiyega
ab mujhe aap ki zaroorat hai

meri cigarette pe e'itraaz to hain
kya mujhe choomne ki hasrat hai

bas apne aap mein uljha hua hai
use kah do ki she'r achha hua hai

samundar ki chataai kheench lo ab
bahut din se yahin baitha hua hai

buna tha tum ne pichhli sardiyon mein
ye main ne hijr jo pahna hua hai

सोचना भी अजीब आदत है
ये भी तो सोचने की सूरत है

अब मुझे आप छोड़ जाइएगा
अब मुझे आप की ज़रूरत है

मेरी सिगरेट पे ए'तिराज़ तो हैं
क्या मुझे चूमने की हसरत है

बस अपने आप में उलझा हुआ है
उसे कह दो कि शे'र अच्छा हुआ है

समुंदर की चटाई खींच लो अब
बहुत दिन से यहीं बैठा हुआ है

बुना था तुम ने पिछली सर्दियों में
ये मैं ने हिज्र जो पहना हुआ है

- Vikas Rana
3 Likes

Justaju Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikas Rana

As you were reading Shayari by Vikas Rana

Similar Writers

our suggestion based on Vikas Rana

Similar Moods

As you were reading Justaju Shayari Shayari