dil-khandar mein khade hue hain ham | दिल-खंडर में खड़े हुए हैं हम - Vikas Sharma Raaz

dil-khandar mein khade hue hain ham
baazgasht apni sun rahe hain ham

muddatein ho gaeein hisaab kiye
kya pata kitne rah gaye hain ham

jab hamein saazgaar hai hi nahin
jism ko pahne kyun hue hain ham

rafta rafta qubool honge use
raushni ke liye naye hain ham

vahshatein lag gaeein thikaane sab
dasht ko raas aa gaye hain ham

dhun to aahista baj rahi hai raaz
raqs kuchh tez kar rahe hain ham

दिल-खंडर में खड़े हुए हैं हम
बाज़गश्त अपनी सुन रहे हैं हम

मुद्दतें हो गईं हिसाब किए
क्या पता कितने रह गए हैं हम

जब हमें साज़गार है ही नहीं
जिस्म को पहने क्यूँ हुए हैं हम

रफ़्ता रफ़्ता क़ुबूल होंगे उसे
रौशनी के लिए नए हैं हम

वहशतें लग गईं ठिकाने सब
दश्त को रास आ गए हैं हम

धुन तो आहिस्ता बज रही है 'राज़'
रक़्स कुछ तेज़ कर रहे हैं हम

- Vikas Sharma Raaz
1 Like

Raaz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikas Sharma Raaz

As you were reading Shayari by Vikas Sharma Raaz

Similar Writers

our suggestion based on Vikas Sharma Raaz

Similar Moods

As you were reading Raaz Shayari Shayari