hawa ke vaar pe ab vaar karne waala hai | हवा के वार पे अब वार करने वाला है - Vikas Sharma Raaz

hawa ke vaar pe ab vaar karne waala hai
charaagh bujhne se inkaar karne waala hai

khuda kare ki tira azm barqaraar rahe
zamaana raah mein deewaar karne waala hai

wahi dikhaayega tujh ko tamaam daagh tire
jise tu aaina-bardaar karne waala hai

ye vaar to kabhi khaali nahin gaya mera
koi to us ko khabar-daar karne waala hai

usi ne rang bhare hain tamaam phoolon mein
wahi shajar ko samar-daar karne waala hai

zameen bech ke khush ho rahe ho tum jis ko
vo saare gaav ko bazaar karne waala hai

हवा के वार पे अब वार करने वाला है
चराग़ बुझने से इंकार करने वाला है

ख़ुदा करे कि तिरा अज़्म बरक़रार रहे
ज़माना राह में दीवार करने वाला है

वही दिखाएगा तुझ को तमाम दाग़ तिरे
जिसे तू आइना-बरदार करने वाला है

ये वार तो कभी ख़ाली नहीं गया मेरा
कोई तो उस को ख़बर-दार करने वाला है

उसी ने रंग भरे हैं तमाम फूलों में
वही शजर को समर-दार करने वाला है

ज़मीन बेच के ख़ुश हो रहे हो तुम जिस को
वो सारे गाँव को बाज़ार करने वाला है

- Vikas Sharma Raaz
0 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikas Sharma Raaz

As you were reading Shayari by Vikas Sharma Raaz

Similar Writers

our suggestion based on Vikas Sharma Raaz

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari