use chhua hi nahin jo meri kitaab mein tha | उसे छुआ ही नहीं जो मिरी किताब में था - Vikas Sharma Raaz

use chhua hi nahin jo meri kitaab mein tha
wahi padaaya gaya mujh ko jo nisaab mein tha

wahi to din the ujaalon ke phool chunne ke
unhin dinon main andheron ke intikhaab mein tha

bas itna yaad hai koi bagoola utha tha
phir is ke baad main sehra-e-iztiraab mein tha

meri urooj ki likkhi thi dastaan jis mein
mere zawaal ka qissa bhi us kitaab mein tha

bala ka habs tha par neend tootti hi na thi
na koi dar na dareecha faseel-e-khwaab mein tha

bas ek boond ke girte hi ho gaya azaad
vo haft-rang ujaala jo mujh hubaab mein tha

उसे छुआ ही नहीं जो मिरी किताब में था
वही पढ़ाया गया मुझ को जो निसाब में था

वही तो दिन थे उजालों के फूल चुनने के
उन्हीं दिनों मैं अंधेरों के इंतिख़ाब में था

बस इतना याद है कोई बगूला उट्ठा था
फिर इस के बाद मैं सहरा-ए-इज़्तिराब में था

मिरी उरूज की लिक्खी थी दास्ताँ जिस में
मिरे ज़वाल का क़िस्सा भी उस किताब में था

बला का हब्स था पर नींद टूटती ही न थी
न कोई दर न दरीचा फ़सील-ए-ख़्वाब में था

बस एक बूँद के गिरते ही हो गया आज़ाद
वो हफ़्त-रंग उजाला जो मुझ हुबाब में था

- Vikas Sharma Raaz
2 Likes

Kahani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikas Sharma Raaz

As you were reading Shayari by Vikas Sharma Raaz

Similar Writers

our suggestion based on Vikas Sharma Raaz

Similar Moods

As you were reading Kahani Shayari Shayari