daagh hone lage zaahir mere | दाग़ होने लगे ज़ाहिर मेरे - Vikas Sharma Raaz

daagh hone lage zaahir mere
tez kar rang musavvir mere

meri aankhon mein siyaahi bhar de
ya hare kar de manaazir mere

nuqraai jheel bulaati thi unhen
fans gaye jaal mein taair mere

kaun tahleel hua hai mujh mein
muntashir kyun hain anaasir mere

hai kahaan shank bajaane waala
kab se khaamosh hain mandir mere

sang se jism bhi kar ab mujh ko
tu kahaan khoya hai saahir mere

lafz ki qaid-o-rihaai ka hunar
kaam aa hi gaya aakhir mere

दाग़ होने लगे ज़ाहिर मेरे
तेज़ कर रंग मुसव्विर मेरे

मेरी आँखों में सियाही भर दे
या हरे कर दे मनाज़िर मेरे

नुक़रई झील बुलाती थी उन्हें
फँस गए जाल में ताइर मेरे

कौन तहलील हुआ है मुझ में
मुंतशिर क्यूँ हैं अनासिर मेरे

है कहाँ शंख बजाने वाला
कब से ख़ामोश हैं मंदिर मेरे

संग से जिस्म भी कर अब मुझ को
तू कहाँ खोया है साहिर मेरे

लफ़्ज़ की क़ैद-ओ-रिहाई का हुनर
काम आ ही गया आख़िर मेरे

- Vikas Sharma Raaz
0 Likes

Attitude Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikas Sharma Raaz

As you were reading Shayari by Vikas Sharma Raaz

Similar Writers

our suggestion based on Vikas Sharma Raaz

Similar Moods

As you were reading Attitude Shayari Shayari