koi us ke barabar ho gaya hai | कोई उस के बराबर हो गया है - Vikas Sharma Raaz

koi us ke barabar ho gaya hai
ye sunte hi vo patthar ho gaya hai

judaai ka hamein imkaan to tha
magar ab din mukarrar ho gaya hai

sabhi hairat se mujh ko tak rahe hain
ye kiya tahreer mujh par ho gaya hai

asar hai ye hamaari dastkon ka
jahaan deewaar thi dar ho gaya hai

jise dekho ghazal pahne hue hai
bahut sasta ye zewar vo gaya hai

कोई उस के बराबर हो गया है
ये सुनते ही वो पत्थर हो गया है

जुदाई का हमें इम्कान तो था
मगर अब दिन मुक़र्रर हो गया है

सभी हैरत से मुझ को तक रहे हैं
ये किया तहरीर मुझ पर हो गया है

असर है ये हमारी दस्तकों का
जहाँ दीवार थी दर हो गया है

जिसे देखो ग़ज़ल पहने हुए है
बहुत सस्ता ये ज़ेवर वो गया है

- Vikas Sharma Raaz
0 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikas Sharma Raaz

As you were reading Shayari by Vikas Sharma Raaz

Similar Writers

our suggestion based on Vikas Sharma Raaz

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari