jin se uthata nahin kali ka bojh | जिन से उठता नहीं कली का बोझ - Vikram Sharma

jin se uthata nahin kali ka bojh
un ke kandon pe zindagi ka bojh

waqt jab haath mein nahin rehta
kis liye haath par ghadi ka bojh

byah ke waqt ki koi photo
gehnon ke bojh par hasi ka bojh

sar pe yaadon ki tokri rakh li
kam na hone diya kami ka bojh

minnaten kyun kare khuda se ab
aadmi baante aadmi ka bojh

zabt ka baandh toot jaane do
kam karo aankh se nami ka bojh

hijr tha ek hi ghadi ka par
dil se utara na us ghadi ka bojh

ham ko aise khuda qubool nahin
jin se uthata nahin khudi ka bojh

जिन से उठता नहीं कली का बोझ
उन के कंधों पे ज़िंदगी का बोझ

वक़्त जब हाथ में नहीं रहता
किस लिए हाथ पर घड़ी का बोझ

ब्याह के वक़्त की कोई फोटो
गहनों के बोझ पर हँसी का बोझ

सर पे यादों की टोकरी रख ली
कम न होने दिया कमी का बोझ

मिन्नतें क्यों करे ख़ुदा से अब
आदमी बाँटे आदमी का बोझ

ज़ब्त का बाँध टूट जाने दो
कम करो आँख से नमी का बोझ

हिज्र था एक ही घड़ी का पर
दिल से उतरा न उस घड़ी का बोझ

हम को ऐसे ख़ुदा क़ुबूल नहीं
जिन से उठता नहीं ख़ुदी का बोझ

- Vikram Sharma
0 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikram Sharma

As you were reading Shayari by Vikram Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Vikram Sharma

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari