mashwara hai ye behtari ke liye | मशवरा है ये बेहतरी के लिए - Vikram Sharma

mashwara hai ye behtari ke liye
ham bichhad jaate hain abhi ke liye

pyaas le jaati hai nadi ki taraf
koi jaata nahin nadi ke liye

zindagi ki main kar raha tha class
bas register mein haaziri ke liye

aap deewaar kah rahe hain jise
raasta hai vo chipkali ke liye

qais ne meri pairavi ki hai
dasht-o-sehra mein naukri ke liye

neel se pehle chaand par maujood
ek budhiya thi mukhbirii ke liye

मशवरा है ये बेहतरी के लिए
हम बिछड़ जाते हैं अभी के लिए

प्यास ले जाती है नदी की तरफ़
कोई जाता नहीं नदी के लिए

ज़िंदगी की मैं कर रहा था क्लास
बस रजिस्टर में हाज़िरी के लिए

आप दीवार कह रहे हैं जिसे
रास्ता है वो छिपकली के लिए

क़ैस ने मेरी पैरवी की है
दश्त-ओ-सहरा में नौकरी के लिए

नील से पहले चाँद पर मौजूद
एक बुढ़िया थी मुख़बिरी के लिए

- Vikram Sharma
0 Likes

Berozgari Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikram Sharma

As you were reading Shayari by Vikram Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Vikram Sharma

Similar Moods

As you were reading Berozgari Shayari Shayari