meri aadat hai main har raahbar se baat karta hoon | मिरी आदत है मैं हर राहबर से बात करता हूँ - Vikram Sharma

meri aadat hai main har raahbar se baat karta hoon
guzarta hoon jo raaste se shajar se baat karta hoon

main tujh se baat karne ko tire kirdaar mein aa kar
idhar se phone karta hoon udhar se baat karta hoon

main tere saath to ghar mein bada khaamosh rehta tha
nahin maujood tu ghar mein to ghar se baat karta hoon

khizaan ka koi manzar mere andar raqs karta hai
kabhi jo ban mein gul se ya samar se baat karta hoon

sukhun ke fan ko aise hi to zaayein kar nahin saka
so main khud se ya phir ahl-e-nazar se baat karta hoon

मिरी आदत है मैं हर राहबर से बात करता हूँ
गुज़रता हूँ जो रस्ते से शजर से बात करता हूँ

मैं तुझ से बात करने को तिरे किरदार में आ कर
इधर से फ़ोन करता हूँ उधर से बात करता हूँ

मैं तेरे साथ तो घर में बड़ा ख़ामोश रहता था
नहीं मौजूद तू घर में तो घर से बात करता हूँ

ख़िज़ाँ का कोई मंज़र मेरे अंदर रक़्स करता है
कभी जो बन में गुल से या समर से बात करता हूँ

सुख़न के फ़न को ऐसे ही तो ज़ाएअ' कर नहीं सकता
सो मैं ख़ुद से या फिर अहल-ए-नज़र से बात करता हूँ

- Vikram Sharma
2 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikram Sharma

As you were reading Shayari by Vikram Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Vikram Sharma

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari