moond kar bas aankh apni un manaazir ke khilaaf | मूँद कर बस आँख अपनी उन मनाज़िर के ख़िलाफ़ - Vineet Aashna

moond kar bas aankh apni un manaazir ke khilaaf
kar rahe hain ham bagaavat daur-e-haazir ke khilaaf

tujh talak awaaz meri jaate jaate kho gai
raaste sab ho gaye hain is musaafir ke khilaaf

hausla jo hai to lalkaaro khuda ko bhi kabhi
kya milega tum ko ho kar ham se kaafir ke khilaaf

ek adnaa dil ke haathon dono hain majboor ham
aao thame haath ham us shay-e-shaatir ke khilaaf

ik taraf tha main nihathha ik taraf vo gul-badan
ishq ki baazi main haara ek maahir ke khilaaf

ek ik kar ke sabhi purze usi ke ho gaye
ab badan mein hoon main tanhaa husn-e-jaabir ke khilaaf

aashna phir khwaab mein aaya nahin tu raat bhar
tu bhi shaayad ho gaya hai ek sha'ir ke khilaaf

मूँद कर बस आँख अपनी उन मनाज़िर के ख़िलाफ़
कर रहे हैं हम बग़ावत दौर-ए-हाज़िर के ख़िलाफ़

तुझ तलक आवाज़ मेरी जाते जाते खो गई
रास्ते सब हो गए हैं इस मुसाफ़िर के ख़िलाफ़

हौसला जो है तो ललकारो ख़ुदा को भी कभी
क्या मिलेगा तुम को हो कर हम से काफ़िर के ख़िलाफ़

एक अदना दिल के हाथों दोनों हैं मजबूर हम
आओ थामें हाथ हम उस शय-ए-शातिर के ख़िलाफ़

इक तरफ़ था मैं निहत्था इक तरफ़ वो गुल-बदन
इश्क़ की बाज़ी मैं हारा एक माहिर के ख़िलाफ़

एक इक कर के सभी पुर्ज़े उसी के हो गए
अब बदन में हूँ मैं तन्हा हुस्न-ए-जाबिर के ख़िलाफ़

'आश्ना' फिर ख़्वाब में आया नहीं तू रात भर
तू भी शायद हो गया है एक शाइ'र के ख़िलाफ़

- Vineet Aashna
0 Likes

Awaaz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vineet Aashna

As you were reading Shayari by Vineet Aashna

Similar Writers

our suggestion based on Vineet Aashna

Similar Moods

As you were reading Awaaz Shayari Shayari