dilon pe dard ka imkaan bhi ziyaada nahin | दिलों पे दर्द का इम्कान भी ज़ियादा नहीं - Vipul Kumar

dilon pe dard ka imkaan bhi ziyaada nahin
vo sabr hai abhi nuksaan bhi ziyaada nahin

vo ek haath badhaayega tujh ko pa lega
so dekh sabr ka elaan bhi ziyaada nahin

humeen ne hashr utha rakha hai bichhadne par
vo jaan-e-jaan to pareshaan bhi ziyaada nahin

tamaam ishq ki mohlat hai us ki aankhon mein
aur ek lamha-e-imkaan bhi ziyaada nahin

दिलों पे दर्द का इम्कान भी ज़ियादा नहीं
वो सब्र है अभी नुक़सान भी ज़ियादा नहीं

वो एक हाथ बढ़ाएगा तुझ को पा लेगा
सो देख सब्र का एलान भी ज़ियादा नहीं

हमीं ने हश्र उठा रक्खा है बिछड़ने पर
वो जान-ए-जाँ तो परेशान भी ज़ियादा नहीं

तमाम इश्क़ की मोहलत है उस की आँखों में
और एक लमहा-ए-इमकान भी ज़ियादा नहीं

- Vipul Kumar
0 Likes

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari