savaad-e-shaam mein sab vahshiyon ka jalsa ho | सवाद-ए-शाम में सब वहशियों का जलसा हो - Vipul Kumar

savaad-e-shaam mein sab vahshiyon ka jalsa ho
lahu ka raag ho aur naghma-saaz pyaasa ho

suna rahe hain mujhe log dastaan uski
is etimaad se jaise kisi ne dekha ho

kisi ke hont suron mein kalaam karte hon
kisi ka ranj udaasi ki taan leta ho

kisi kanaar ki khushboo se sher khulne lagen
ki baat baat nahin ho bas ik ishaara ho

bala-e-sard koi shaal ho sitaaron jada
khizaan ki shaam ho aur sardiyon ka qissa ho

gila na kar ki gila maatam-e-mohabbat hai
gale se lag ke bata mujhse jo bhi shikwa ho

ab aa gaye hain ki aakhir teri gali ka bharam
kahi kiwaad ki dastak hi se na khulta ho

main ye samajh ke rag-e-gul se baat karta hoon
koi to baagh mein mera hisaab likhta ho

सवाद-ए-शाम में सब वहशियों का जलसा हो
लहू का राग हो और नग़मा-साज़ प्यासा हो

सुना रहे हैं मुझे लोग दास्ताँ उसकी
इस एतिमाद से जैसे किसी ने देखा हो

किसी के होंट सुरों में कलाम करते हों
किसी का रंज उदासी की तान लेता हो

किसी कनार की ख़ुशबू से शेर खुलने लगें
कि बात बात नहीं हो बस इक इशारा हो

बला-ए-सर्द कोई शाल हो सितारों जड़ा
ख़िज़ाँ की शाम हो और सर्दियों का क़िस्सा हो

गिला न कर कि गिला मातम-ए-मोहब्बत है
गले से लग के बता मुझसे जो भी शिकवा हो

अब आ गए हैं कि आख़िर तेरी गली का भरम
कहीं किवाड़ की दस्तक ही से न खुलता हो

मैं ये समझ के रग-ए-गुल से बात करता हूँ
कोई तो बाग़ में मेरा हिसाब लिखता हो

- Vipul Kumar
1 Like

Gaon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Gaon Shayari Shayari