parind chat pe bulaate hain bein karte hain | परिंद छत पे बुलाते हैं बैन करते हैं - Vipul Kumar

parind chat pe bulaate hain bein karte hain
meri bayaaz dikhaate hain bein karte hain

inhen pata hi nahin band khidkiyon ki sisak
ye log ro nahin paate hain bein karte hain

bahaar dekhne jaata hoon baagh mein to shajar
purane zakham ginate hain bein karte hain

dhuaan dhuaan hain makaan aur ye raushni ke ghulaam
bujhe charaagh dikhaate hain bein karte hain

main kis ko baat bataaun ki sab mere aage
kisi ko baat bataate hain bein karte hain

janaab-e-man mere sheron ka ehtiraam karein
ye mera haath batate hain bein karte hain

परिंद छत पे बुलाते हैं बैन करते हैं
मेरी बयाज़ दिखाते हैं बैन करते हैं

इन्हें पता ही नहीं बंद खिड़कियों की सिसक
ये लोग रो नहीं पाते हैं बैन करते हैं

बहार देखने जाता हूँ बाग़ में तो शजर
पुराने ज़ख़्म गिनाते हैं बैन करते हैं

धुआँ धुआँ हैं मकाँ और ये रौशनी के ग़ुलाम
बुझे चराग़ दिखाते हैं बैन करते हैं

मैं किस को बात बताऊँ कि सब मेरे आगे
किसी को बात बताते हैं बैन करते हैं

जनाब-ए-मन मेरे शेरों का एहतिराम करें
ये मेरा हाथ बटाते हैं बैन करते हैं

- Vipul Kumar
1 Like

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari