sar-b-zaanu hain ki yun hi raat bhar rahte hain ham | सर-ब-ज़ानू हैं कि यूँ ही रात भर रहते हैं हम - Vipul Kumar

sar-b-zaanu hain ki yun hi raat bhar rahte hain ham
phail jaati hai zameen aur mukhtasar rahte hain ham

bhaagta hoon aalam-e-idraak se main mujhse dil
haan khabar aati hai lekin be-khabar rahte hain ham

ik diya jalta hai taqon mein numaish ke liye
ek aaina hai jismein mushtar rahte hain ham

subh tak bistar mein baaki ik shikan rehta hai vo
shaam tak daftar mein khaali neend bhar rahte hain ham

kat rahe hain ug rahe hain mausamon ke saath saath
koi yug koi sadi ho waqt par rahte hain ham

raat bhar uth uth ke paani dhoondte hain saahibo
ek tashna-khwaab ke zer-e-asar rahte hain ham

सर-ब-ज़ानू हैं कि यूँ ही रात भर रहते हैं हम
फैल जाती है ज़मीं और मुख़्तसर रहते हैं हम

भागता हूँ आलम-ए-इदराक से मैं, मुझसे दिल
हाँ ख़बर आती है लेकिन बे-ख़बर रहते हैं हम

इक दिया जलता है ताक़ों में नुमाइश के लिए
एक आईना है जिसमें मुश्तहर रहते हैं हम

सुब्ह तक बिस्तर में बाक़ी इक शिकन रहता है वो
शाम तक दफ़्तर में ख़ाली नींद भर रहते हैं हम

कट रहे हैं उग रहे हैं मौसमों के साथ साथ
कोई युग कोई सदी हो वक़्त पर रहते हैं हम

रात भर उठ उठ के पानी ढूँडते हैं साहिबो
एक तश्ना-ख़्वाब के ज़ेर-ए-असर रहते हैं हम

- Vipul Kumar
1 Like

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari