shehar-e-naazuk se vo baarik sadak jaati hai | शहर-ए-नाज़ुक से वो बारीक सड़क जाती है - Vipul Kumar

shehar-e-naazuk se vo baarik sadak jaati hai
main bas ik paanv tikataa hoon tadak jaati hai

aur paivast hua jaata hai patthar mein charaagh
lag ke us haath se lau aur bhadak jaati hai

main bura chor nahin hoon magar us kooche mein
dil dhadak jaata hai paa-posh kharak jaati hai

phool khushboo se bigadte hain hamein bhi le chal
aur jhonke se vo daaman ko jhadak jaati hai

khwaab ka rizq hui jaati hai bedaari ki umr
neend kya cheez hai aankhon mein radak jaati hai

शहर-ए-नाज़ुक से वो बारीक सड़क जाती है
मैं बस इक पाँव टिकाता हूँ तड़क जाती है

और पैवस्त हुआ जाता है पत्थर में चराग़
लग के उस हाथ से लौ और भड़क जाती है

मैं बुरा चोर नहीं हूँ मगर उस कूचे में
दिल धड़क जाता है पा-पोश खड़क जाती है

फूल ख़ुशबू से बिगड़ते हैं हमें भी ले चल
और झोंके से वो दामन को झड़क जाती है

ख़्वाब का रिज़्क़ हुई जाती है बेदारी की 'उम्र
नींद क्या चीज़ है आँखों में रड़क जाती है

- Vipul Kumar
1 Like

Basant Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Basant Shayari Shayari