bharam duniya ka pehle se ziyaada khul raha hai | भरम दुनिया का पहले से ज़ियादा खुल रहा है - Vipul Kumar

bharam duniya ka pehle se ziyaada khul raha hai
ye aankhen khul rahi hain ya tamasha khul raha hai

safar aage hai be-saamaani-e-dil ka uthe hai
abhi se dekhiye samaan saara khul raha hai

ye dil mashhoor tha lab-bastagi aur khastagi mein
khuda rakhe teri mehfil mein kitna khul raha hai

thehar ai shorish-e-deedaar batti jal rahi hai
tham ai paon ki betaabi dareecha khul raha hai

kahi aisa na ho bah jaaye sab mitti badan ki
kinaara kar meri aankhon ka dariya khul raha hai

भरम दुनिया का पहले से ज़ियादा खुल रहा है
ये आँखें खुल रही हैं या तमाशा खुल रहा है

सफ़र आगे है बे-सामानी-ए-दिल का उठे है
अभी से देखिए सामान सारा खुल रहा है

ये दिल मशहूर था लब-बस्तगी और ख़स्तगी में
ख़ुदा रक्खे तेरी महफ़िल में कितना खुल रहा है

ठहर ऐ शोरिश-ए-दीदार बत्ती जल रही है
थम ऐ पाओं की बेताबी दरीचा खुल रहा है

कहीं ऐसा न हो बह जाए सब मिट्टी बदन की
किनारा कर मेरी आँखों का दरिया खुल रहा है

- Vipul Kumar
0 Likes

Shohrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Shohrat Shayari Shayari