farz-e-supurdagi mein taqaze nahin hue | फ़र्ज़-ए-सुपुर्दगी में तक़ाज़े नहीं हुए - Vipul Kumar

farz-e-supurdagi mein taqaze nahin hue
tere kahaan se hon ki hum apne nahin hue

kuch qarz apni zaat ke ho bhi gaye vasool
jaise tire supurd the vaise nahin hue

achha hua ki hum ko marz la-dava mila
achha nahin hua ki hum achhe nahin hue

us ke badan ka mood bada khush-gawaar hai
hum bhi safar mein umr se thehre nahin hue

ik roz khel khel mein hum us ke ho gaye
aur phir tamaam umr kisi ke nahin hue

hum aa ke teri bazm mein be-shak hue zaleel
jitne gunaahgaar the utne nahin hue

is baar jang us se raunat ki thi so hum
apni ana ke ho gaye us ke nahin hue

फ़र्ज़-ए-सुपुर्दगी में तक़ाज़े नहीं हुए
तेरे कहाँ से हों कि हम अपने नहीं हुए

कुछ क़र्ज़ अपनी ज़ात के हो भी गए वसूल
जैसे तिरे सुपुर्द थे वैसे नहीं हुए

अच्छा हुआ कि हम को मरज़ ला-दवा मिला
अच्छा नहीं हुआ कि हम अच्छे नहीं हुए

उस के बदन का मूड बड़ा ख़ुश-गवार है
हम भी सफ़र में उम्र से ठहरे नहीं हुए

इक रोज़ खेल खेल में हम उस के हो गए
और फिर तमाम उम्र किसी के नहीं हुए

हम आ के तेरी बज़्म में बे-शक हुए ज़लील
जितने गुनाहगार थे उतने नहीं हुए

इस बार जंग उस से रऊनत की थी सो हम
अपनी अना के हो गए उस के नहीं हुए

- Vipul Kumar
2 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari