banda to huzoor aap ke kaam aaya bahut hai | बंदा तो हुज़ूर आप के काम आया बहुत है - Virendra Khare Akela

banda to huzoor aap ke kaam aaya bahut hai
ye bhi hai baja aap ne thukraaya bahut hai

ulfat hai ki hai dil-lagi mujh ko nahin maaloom
phir chaand mujhe dekh ke muskaaya bahut hai

duniya mujhe sooli pe chadha de to chadha de
ulfat ka sabq main ne bhi dohraaya bahut hai

ye baat baja ki hai madad shukriya saahib
ehsaan magar aap ne jatlaaya bahut hai

gum-sum sa kai roz se dikhta hai vo zalim
shaayad mera dil tod ke pachtaaya bahut hai

khud ki bhi kabhi shakl zara dekh len saahib
aaina mujhe aap ne dikhlaayaa bahut hai

ab aql ka dushman jo na samjhe to na samjhe
main ne dil-e-naadaan ko samjhaaya bahut hai

afsos nahin qatl ka mujh ko mere qaateel
gham hai yahi tu ne mujhe tadpaaya bahut hai

eimaan o dharm taak pe dekho to akela
paise ke liye aadmi paglaaya bahut hai

बंदा तो हुज़ूर आप के काम आया बहुत है
ये भी है बजा आप ने ठुकराया बहुत है

उल्फ़त है कि है दिल-लगी मुझ को नहीं मालूम
फिर चाँद मुझे देख के मुस्काया बहुत है

दुनिया मुझे सूली पे चढ़ा दे तो चढ़ा दे
उल्फ़त का सबक़ मैं ने भी दोहराया बहुत है

ये बात बजा की है मदद शुक्रिया साहिब
एहसान मगर आप ने जतलाया बहुत है

गुम-सुम सा कई रोज़ से दिखता है वो ज़ालिम
शायद मिरा दिल तोड़ के पछताया बहुत है

ख़ुद की भी कभी शक्ल ज़रा देख लें साहिब
आईना मुझे आप ने दिखलाया बहुत है

अब अक़्ल का दुश्मन जो न समझे तो न समझे
मैं ने दिल-ए-नादान को समझाया बहुत है

अफ़्सोस नहीं क़त्ल का मुझ को मिरे क़ातिल
ग़म है यही तू ने मुझे तड़पाया बहुत है

ईमान ओ धरम ताक पे देखो तो 'अकेला'
पैसे के लिए आदमी पगलाया बहुत है

- Virendra Khare Akela
0 Likes

Mazhab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Virendra Khare Akela

As you were reading Shayari by Virendra Khare Akela

Similar Writers

our suggestion based on Virendra Khare Akela

Similar Moods

As you were reading Mazhab Shayari Shayari