vaasta har pal nayi uljhan se hai | वास्ता हर पल नई उलझन से है - Virendra Khare Akela

vaasta har pal nayi uljhan se hai
phir bhi ham ko pyaar is jeevan se hai

kis galat-fahmi mein ho tum raadhike
mel manmohan ka har gwaalan se hai

dil diya maano ki sab kuchh de diya
aur kya ummeed is nirdhan se hai

yaar us ko bhoolna mumkin nahin
us ka rishta dil ki har dhadkan se hai

mua'af karna aap hain jis par fida
saari raunaq us pe rang roghan se hai

jo sahi us ne dikhaaya bas wahi
kyun shikaayat aap ko darpan se hai

ye kahaan mumkin ki likhna chhod doon
shayari ka shauq to bachpan se hai

वास्ता हर पल नई उलझन से है
फिर भी हम को प्यार इस जीवन से है

किस ग़लत-फ़हमी में हो तुम राधिके
मेल मनमोहन का हर ग्वालन से है

दिल दिया मानो कि सब कुछ दे दिया
और क्या उम्मीद इस निर्धन से है

यार उस को भूलना मुमकिन नहीं
उस का रिश्ता दिल की हर धड़कन से है

मुआ'फ़ करना आप हैं जिस पर फ़िदा
सारी रौनक़ उस पे रंग रोग़न से है

जो सही उस ने दिखाया बस वही
क्यों शिकायत आप को दर्पन से है

ये कहाँ मुमकिन कि लिखना छोड़ दूँ
शायरी का शौक़ तो बचपन से है

- Virendra Khare Akela
0 Likes

Bahan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Virendra Khare Akela

As you were reading Shayari by Virendra Khare Akela

Similar Writers

our suggestion based on Virendra Khare Akela

Similar Moods

As you were reading Bahan Shayari Shayari