log bhi kiya hain kisi ka dil dukha kar khush hue | लोग भी किया हैं किसी का दिल दुखा कर ख़ुश हुए - Virendra Khare Akela

log bhi kiya hain kisi ka dil dukha kar khush hue
phool par baithi hui titli uda kar khush hue

pyaas ham apni bujha len ye ijaazat hai kahaan
phir bhi ai dariya tire nazdeek aakar khush hue

marz ko pale hue rakhna samajhdari nahin
log phir bhi khaamiyaan apni chhupa kar khush hue

shakl-o-soorat dekhne laayeq thi tab sayyaad ki
qaid panchi jab paron ko farfarahaa kar khush hue

aakhirsh karte bhi kiya jab class mein teacher na tha
saare baccha bacchiyaan uddham macha kar khush hue

bojh dil ka ek hi jhatke mein halka ho gaya
ham tumhaari yaad mein khud ko rula kar khush hue

ai akela aur kya hona tha bas itna hua
sar-fire jhonke charaagon ko bujha kar khush hue

लोग भी किया हैं किसी का दिल दुखा कर ख़ुश हुए
फूल पर बैठी हुई तितली उड़ा कर ख़ुश हुए

प्यास हम अपनी बुझा लें ये इजाज़त है कहाँ
फिर भी ऐ दरिया तिरे नज़दीक आकर ख़ुश हुए

मर्ज़ को पाले हुए रखना समझदारी नहीं
लोग फिर भी ख़ामियाँ अपनी छुपा कर ख़ुश हुए

शक्ल-ओ-सूरत देखने लाएक़ थी तब सय्याद की
क़ैद पंछी जब परों को फड़फड़ा कर ख़ुश हुए

आख़िरश करते भी किया जब क्लास में टीचर न था
सारे बच्चा बच्चियाँ ऊधम मचा कर ख़ुश हुए

बोझ दिल का एक ही झटके में हल्क़ा हो गया
हम तुम्हारी याद में ख़ुद को रुला कर ख़ुश हुए

ऐ 'अकेला' और क्या होना था बस इतना हुआ
सर-फिरे झोंके चराग़ों को बुझा कर ख़ुश हुए

- Virendra Khare Akela
0 Likes

Khushi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Virendra Khare Akela

As you were reading Shayari by Virendra Khare Akela

Similar Writers

our suggestion based on Virendra Khare Akela

Similar Moods

As you were reading Khushi Shayari Shayari