adavat dil mein rakhte hain magar yaari dikhaate hain | अदावत दिल में रखते हैं मगर यारी दिखाते हैं - Virendra Khare Akela

adavat dil mein rakhte hain magar yaari dikhaate hain
na jaane log bhi kya kya adaakaari dikhaate hain

yaqeenan un ka jee bharne laga hai mezbaani se
vo kuchh din se hamein jaati hui lauri dikhaate hain

uljhana hai hamein banjar zameenon ki haqeeqat se
unhen kya vo to bas kaaghaz pe fulwaari dikhaate hain

madad karne se pehle tum haqeeqat bhi parakh lena
yahan par aadatan kuchh log laachaari dikhaate hain

daraana chahte hain vo hamein bhi dhamkiyaan de kar
bade naadaan hain paani ko chingaari dikhaate hain

darakhton ki hifazat karne waalo dar nahin jaana
dikhaane do agar kuchh sar-fire aari dikhaate hain

himaqat qaabil-e-taarif hai un ki akela jee
humeen se kaam hai ham ko hi rang-daari dikhaate hain

अदावत दिल में रखते हैं मगर यारी दिखाते हैं
न जाने लोग भी क्या क्या अदाकारी दिखाते हैं

यक़ीनन उन का जी भरने लगा है मेज़बानी से
वो कुछ दिन से हमें जाती हुई लॉरी दिखाते हैं

उलझना है हमें बंजर ज़मीनों की हक़ीक़त से
उन्हें क्या वो तो बस काग़ज़ पे फुलवारी दिखाते हैं

मदद करने से पहले तुम हक़ीक़त भी परख लेना
यहाँ पर आदतन कुछ लोग लाचारी दिखाते हैं

डराना चाहते हैं वो हमें भी धमकियाँ दे कर
बड़े नादान हैं पानी को चिंगारी दिखाते हैं

दरख़्तों की हिफ़ाज़त करने वालो डर नहीं जाना
दिखाने दो अगर कुछ सर-फिरे आरी दिखाते हैं

हिमाक़त क़ाबिल-ए-तारीफ़ है उन की 'अकेला' जी
हमीं से काम है हम को ही रंग-दारी दिखाते हैं

- Virendra Khare Akela
0 Likes

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Virendra Khare Akela

As you were reading Shayari by Virendra Khare Akela

Similar Writers

our suggestion based on Virendra Khare Akela

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari