qusoor kya hai jo ham se khataayein hoti hain | क़ुसूर क्या है जो हम से ख़ताएँ होती हैं - Virendra Khare Akela

qusoor kya hai jo ham se khataayein hoti hain
huzoor aap ki qaateel adaayein hoti hain

barsna aata nahin un ko hai yahi rona
falak pe roz hi kaali ghataaein hoti hain

gunaah-e-ishq to aankhon ka mashghala thehra
ye kya sitam hai ki dil ko sazaayein hoti hain

zara si ot agar le sako to achha hai
diye ki taak mein shaatir hawaaein hoti hain

hamaare paas bhala kya hai aur dene ko
tumhaare vaaste dil mein duaaein hoti hain

tujhe bhi saikron sammaan mil gaye hote
akela tujh se kahaan iltijaaein hoti hain

क़ुसूर क्या है जो हम से ख़ताएँ होती हैं
हुज़ूर आप की क़ातिल अदाएँ होती हैं

बरसना आता नहीं उन को है यही रोना
फ़लक पे रोज़ ही काली घटाएँ होती हैं

गुनाह-ए-इश्क़ तो आँखों का मश्ग़ला ठहरा
ये क्या सितम है कि दिल को सज़ाएँ होती हैं

ज़रा सी ओट अगर ले सको तो अच्छा है
दिए की ताक में शातिर हवाएँ होती हैं

हमारे पास भला क्या है और देने को
तुम्हारे वास्ते दिल में दुआएँ होती हैं

तुझे भी सैकड़ों सम्मान मिल गए होते
‘अकेला’ तुझ से कहाँ इल्तिजाएँ होती हैं

- Virendra Khare Akela
0 Likes

Tanhai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Virendra Khare Akela

As you were reading Shayari by Virendra Khare Akela

Similar Writers

our suggestion based on Virendra Khare Akela

Similar Moods

As you were reading Tanhai Shayari Shayari