tumhaari raah mein mitti ke ghar nahin aate | तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते - Waseem Barelvi

tumhaari raah mein mitti ke ghar nahin aate
isee liye to tumhein ham nazar nahin aate

mohabbaton ke dinon ki yahi kharaabi hai
ye rooth jaayen to phir laut kar nahin aate

jinhen saleeqa hai tehzeeb-e-gham samajhne ka
unhin ke rone mein aansu nazar nahin aate

khushi ki aankh mein aansu ki bhi jagah rakhna
bure zamaane kabhi pooch kar nahin aate

bisaat-e-ishq pe badhna kise nahin aata
ye aur baat ki bachne ke ghar nahin aate

waseem zehan banaate hain to wahi akhbaar
jo le ke ek bhi achhi khabar nahin aate

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते
इसी लिए तो तुम्हें हम नज़र नहीं आते

मोहब्बतों के दिनों की यही ख़राबी है
ये रूठ जाएँ तो फिर लौट कर नहीं आते

जिन्हें सलीक़ा है तहज़ीब-ए-ग़म समझने का
उन्हीं के रोने में आँसू नज़र नहीं आते

ख़ुशी की आँख में आँसू की भी जगह रखना
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते

बिसात-ए-इश्क़ पे बढ़ना किसे नहीं आता
ये और बात कि बचने के घर नहीं आते

'वसीम' ज़ेहन बनाते हैं तो वही अख़बार
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते

- Waseem Barelvi
3 Likes

Khushi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Khushi Shayari Shayari