hazaaron dukh pade sahna mohabbat mar nahin sakti | हज़ारों दुख पड़ें सहना मोहब्बत मर नहीं सकती - Wasi Shah

hazaaron dukh pade sahna mohabbat mar nahin sakti
hai tum se bas yahi kehna mohabbat mar nahin sakti

tira har baar mere khat ko padhna aur ro dena
mera har baar likh dena mohabbat mar nahin sakti

kiya tha ham ne campus ki nadi par ik haseen wa'da
bhale ham ko pade marna mohabbat mar nahin sakti

purane ahad ko jab zinda karne ka khayal aaye
mujhe bas itna likh dena mohabbat mar nahin sakti

vo tera hijr ki shab phone rakhne se zara pehle
bahut rote hue kehna mohabbat mar nahin sakti

gaye lamhaat furqat ke kahaan se dhundh kar laaun
vo paharon haath par likhna mohabbat mar nahin sakti

हज़ारों दुख पड़ें सहना मोहब्बत मर नहीं सकती
है तुम से बस यही कहना मोहब्बत मर नहीं सकती

तिरा हर बार मेरे ख़त को पढ़ना और रो देना
मिरा हर बार लिख देना मोहब्बत मर नहीं सकती

किया था हम ने कैम्पस की नदी पर इक हसीं वा'दा
भले हम को पड़े मरना मोहब्बत मर नहीं सकती

पुराने अहद को जब ज़िंदा करने का ख़याल आए
मुझे बस इतना लिख देना मोहब्बत मर नहीं सकती

वो तेरा हिज्र की शब फ़ोन रखने से ज़रा पहले
बहुत रोते हुए कहना मोहब्बत मर नहीं सकती

गए लम्हात फ़ुर्सत के कहाँ से ढूँड कर लाऊँ
वो पहरों हाथ पर लिखना मोहब्बत मर नहीं सकती

- Wasi Shah
6 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Wasi Shah

As you were reading Shayari by Wasi Shah

Similar Writers

our suggestion based on Wasi Shah

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari