waqt hi kam tha faisley ke liye | वक़्त ही कम था फ़ैसले के लिए - Zia Mazkoor

waqt hi kam tha faisley ke liye
warna main aata mashware ke liye

tum ko achhe lage to tum rakh lo
phool tode the bechne ke liye

ghanton khaamosh rahna padta hai
aap ke saath bolne ke liye

saikron kundiyaan laga raha hoon
chand button ko kholne ke liye

ek deewaar baagh se pehle
ik dupatta khule gale ke liye

tark apni falah kar di hai
aur kya ho muaashre ke liye

log aayaat padh ke sote hain
aap ke khwaab dekhne ke liye

ab main raaste mein late jaaun kya
jaane waalon ko rokne ke liye

वक़्त ही कम था फ़ैसले के लिए
वर्ना मैं आता मशवरे के लिए

तुम को अच्छे लगे तो तुम रख लो
फूल तोड़े थे बेचने के लिए

घंटों ख़ामोश रहना पड़ता है
आप के साथ बोलने के लिए

सैकड़ों कुंडियाँ लगा रहा हूँ
चंद बटनों को खोलने के लिए

एक दीवार बाग़ से पहले
इक दुपट्टा खुले गले के लिए

तर्क अपनी फ़लाह कर दी है
और क्या हो मुआशरे के लिए

लोग आयात पढ़ के सोते हैं
आप के ख़्वाब देखने के लिए

अब मैं रस्ते में लेट जाऊँ क्या
जाने वालों को रोकने के लिए

- Zia Mazkoor
13 Likes

Hug Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zia Mazkoor

As you were reading Shayari by Zia Mazkoor

Similar Writers

our suggestion based on Zia Mazkoor

Similar Moods

As you were reading Hug Shayari Shayari