ye baat soch ke tere hue hain ham dono | ये बात सोच के तेरे हुए हैं हम दोनों - Zia Mazkoor

ye baat soch ke tere hue hain ham dono
ki tujhko le ke bahut lad chuke hain ham dono

ye sarhadein to abhi kal bani hain mere dost
hazaaron saal ikatthe rahe hain ham dono

koi to tha vo jo ab haafeze ka hissa nahin
vo baat kya thi jo bhule hue hain ham dono

tum aisi baat kisi ko nahin bataaogi
mujhe laga tha bade ho chuke hain ham dono

ikatthe sirf gali se nahin guzarne lage
kisi ke dil se guzarne lage hain ham dono

hazaaron jode gulaabon mein chip ke baithe hain
ye aur baat ki pakde gaye hain ham dono

ये बात सोच के तेरे हुए हैं हम दोनों
कि तुझको ले के बहुत लड़ चुके हैं हम दोनों

ये सरहदें तो अभी कल बनी हैं मेरे दोस्त
हज़ारों साल इकट्ठे रहे हैं हम दोनों

कोई तो था वो जो अब हाफ़िज़े का हिस्सा नहीं
वो बात क्या थी जो भूले हुए हैं हम दोनों

तुम ऐसी बात किसी को नहीं बताओगी
मुझे लगा था बड़े हो चुके हैं हम दोनों

इकट्ठे सिर्फ़ गली से नहीं गुज़रने लगे
किसी के दिल से गुज़रने लगे हैं हम दोनों

हज़ारों जोड़े गुलाबों में छिप के बैठे हैं
ये और बात कि पकड़े गए हैं हम दोनों

- Zia Mazkoor
2 Likes

Sarhad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zia Mazkoor

As you were reading Shayari by Zia Mazkoor

Similar Writers

our suggestion based on Zia Mazkoor

Similar Moods

As you were reading Sarhad Shayari Shayari