raaste sikhaate hain kis se kya alag rakhna | रास्ते सिखाते हैं किस से क्या अलग रखना - Aadil Raza Mansoori

raaste sikhaate hain kis se kya alag rakhna
manzilen alag rakhna qaafila alag rakhna

ba'd ek muddat ke laut kar vo aaya hai
aaj to kahaani se haadisa alag rakhna

jis se ham ne seekha tha saath saath chalna hai
ab wahi bataata hai naqsh-e-paa alag rakhna

kooza-gar ne jaane kyun aadmi banaya hai
us ko sab khilauno se tum zara alag rakhna

laut kar to aaye ho tajarbo ki soorat hai
par meri kahaani se falsafa alag rakhna

tum to khoob waqif ho ab tumhi batao na
kis mein kya milaana hai kis se kya alag rakhna

khwahishon ka khamyaza khwaab kyun bharen aadil
aaj meri aankhon se rat-jaga alag rakhna

रास्ते सिखाते हैं किस से क्या अलग रखना
मंज़िलें अलग रखना क़ाफ़िला अलग रखना

बअ'द एक मुद्दत के लौट कर वो आया है
आज तो कहानी से हादिसा अलग रखना

जिस से हम ने सीखा था साथ साथ चलना है
अब वही बताता है नक़्श-ए-पा अलग रखना

कूज़ा-गर ने जाने क्यूँ आदमी बनाया है
उस को सब खिलौनों से तुम ज़रा अलग रखना

लौट कर तो आए हो तजरबों की सूरत है
पर मिरी कहानी से फ़ल्सफ़ा अलग रखना

तुम तो ख़ूब वाक़िफ़ हो अब तुम्ही बताओ ना
किस में क्या मिलाना है किस से क्या अलग रखना

ख़्वाहिशों का ख़म्याज़ा ख़्वाब क्यूँ भरें 'आदिल'
आज मेरी आँखों से रत-जगा अलग रखना

- Aadil Raza Mansoori
1 Like

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aadil Raza Mansoori

As you were reading Shayari by Aadil Raza Mansoori

Similar Writers

our suggestion based on Aadil Raza Mansoori

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari