kaanta sa jo chubha tha vo lau de gaya hai kya | काँटा सा जो चुभा था वो लौ दे गया है क्या - Ada Jafarey

kaanta sa jo chubha tha vo lau de gaya hai kya
ghulta hua lahu mein ye khurshid sa hai kya

palkon ke beech saare ujaale simat gaye
saaya na saath de ye wahi marhala hai kya

main aandhiyon ke paas talash-e-saba mein hoon
tum mujh se poochte ho mera hausla hai kya

saagar hoon aur mauj ke har daayere mein hoon
saahil pe koi naqsh-e-qadam kho gaya hai kya

sau sau tarah likha to sahi harf-e-aarzoo
ik harf-e-aarzoo hi meri intiha hai kya

ik khwaab-e-dil-pazeer ghani chaanv ki tarah
ye bhi nahin to phir meri zanjeer-e-paa hai kya

kya phir kisi ne qarz-e-murawwat ada kiya
kyun aankh be-sawaal hai dil phir dukha hai kya

काँटा सा जो चुभा था वो लौ दे गया है क्या
घुलता हुआ लहू में ये ख़ुर्शीद सा है क्या

पलकों के बीच सारे उजाले सिमट गए
साया न साथ दे ये वही मरहला है क्या

मैं आँधियों के पास तलाश-ए-सबा में हूँ
तुम मुझ से पूछते हो मिरा हौसला है क्या

सागर हूँ और मौज के हर दाएरे में हूँ
साहिल पे कोई नक़्श-ए-क़दम खो गया है क्या

सौ सौ तरह लिखा तो सही हर्फ़-ए-आरज़ू
इक हर्फ़-ए-आरज़ू ही मिरी इंतिहा है क्या

इक ख़्वाब-ए-दिल-पज़ीर घनी छाँव की तरह
ये भी नहीं तो फिर मिरी ज़ंजीर-ए-पा है क्या

क्या फिर किसी ने क़र्ज़-ए-मुरव्वत अदा किया
क्यूँ आँख बे-सवाल है दिल फिर दुखा है क्या

- Ada Jafarey
0 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ada Jafarey

As you were reading Shayari by Ada Jafarey

Similar Writers

our suggestion based on Ada Jafarey

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari