jo charaagh saare bujha chuke unhen intizaar kahaan raha | जो चराग़ सारे बुझा चुके उन्हें इंतिज़ार कहाँ रहा - Ada Jafarey

jo charaagh saare bujha chuke unhen intizaar kahaan raha
ye sukoon ka daur-e-shadeed hai koi be-qaraar kahaan raha

jo dua ko haath uthaaye bhi to muraad yaad na aa saki
kisi kaarwaan ka jo zikr tha vo pas-e-ghubaar kahaan raha

ye tuloo-e-roz-e-malaal hai so gila bhi kis se karenge hum
koi dilruba koi dil-shikan koi dil-figaar kahaan raha

koi baat khwaab-o-khayaal ki jo karo to waqt katega ab
humein mausamon ke mizaaj par koi e'tibaar kahaan raha

humein koo-b-koo jo liye firee kisi naqsh-e-paa ki talash thi
koi aftaab tha zau-fagan sar-e-rahguzaar kahaan raha

magar ek dhun to lagi rahi na ye dil dukha na gila hua
ki nigaah ko rang-e-bahaar par koi ikhtiyaar kahaan raha

sar-e-dasht hi raha tishna-lab jise zindagi ki talash thi
jise zindagi ki talash thi lab-e-joo'ebaar kahaan raha

जो चराग़ सारे बुझा चुके उन्हें इंतिज़ार कहाँ रहा
ये सुकूँ का दौर-ए-शदीद है कोई बे-क़रार कहाँ रहा

जो दुआ को हाथ उठाए भी तो मुराद याद न आ सकी
किसी कारवाँ का जो ज़िक्र था वो पस-ए-ग़ुबार कहाँ रहा

ये तुलू-ए-रोज़-ए-मलाल है सो गिला भी किस से करेंगे हम
कोई दिलरुबा कोई दिल-शिकन कोई दिल-फ़िगार कहाँ रहा

कोई बात ख़्वाब-ओ-ख़याल की जो करो तो वक़्त कटेगा अब
हमें मौसमों के मिज़ाज पर कोई ए'तिबार कहाँ रहा

हमें कू-ब-कू जो लिए फिरी किसी नक़्श-ए-पा की तलाश थी
कोई आफ़्ताब था ज़ौ-फ़गन सर-ए-रहगुज़ार कहाँ रहा

मगर एक धुन तो लगी रही न ये दिल दुखा न गिला हुआ
कि निगह को रंग-ए-बहार पर कोई इख़्तियार कहाँ रहा

सर-ए-दश्त ही रहा तिश्ना-लब जिसे ज़िंदगी की तलाश थी
जिसे ज़िंदगी की तलाश थी लब-ए-जूएबार कहाँ रहा

- Ada Jafarey
0 Likes

Ibaadat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ada Jafarey

As you were reading Shayari by Ada Jafarey

Similar Writers

our suggestion based on Ada Jafarey

Similar Moods

As you were reading Ibaadat Shayari Shayari