guftugoo achhi lagi zauq-e-nazar achha laga | गुफ़्तुगू अच्छी लगी ज़ौक़-ए-नज़र अच्छा लगा - Ahmad Faraz

guftugoo achhi lagi zauq-e-nazar achha laga
muddaton ke baad koi hum-safar achha laga

dil ka dukh jaana to dil ka mas'ala hai par hamein
us ka hans dena hamaare haal par achha laga

har tarah ki be-sar-o-saamaaniyon ke baawajood
aaj vo aaya to mujh ko apna ghar achha laga

baagbaan gulchein ko chahe jo kahe ham ko to phool
shaakh se badh kar kaf-e-dildaar par achha laga

koi maqtal mein na pahuncha kaun zalim tha jise
tegh-e-qaatil se ziyaada apna sar achha laga

ham bhi qaael hain wafa mein ustuwaari ke magar
koi pooche kaun kis ko umr bhar achha laga

apni apni chahten hain log ab jo bhi kahein
ik pari-paikar ko ik aashufta-sar achha laga

meer ke maanind akshar zeest karta tha faraaz
tha to vo deewaana sa shaair magar achha laga

गुफ़्तुगू अच्छी लगी ज़ौक़-ए-नज़र अच्छा लगा
मुद्दतों के बाद कोई हम-सफ़र अच्छा लगा

दिल का दुख जाना तो दिल का मसअला है पर हमें
उस का हँस देना हमारे हाल पर अच्छा लगा

हर तरह की बे-सर-ओ-सामानियों के बावजूद
आज वो आया तो मुझ को अपना घर अच्छा लगा

बाग़बाँ गुलचीं को चाहे जो कहे हम को तो फूल
शाख़ से बढ़ कर कफ़-ए-दिलदार पर अच्छा लगा

कोई मक़्तल में न पहुँचा कौन ज़ालिम था जिसे
तेग़-ए-क़ातिल से ज़ियादा अपना सर अच्छा लगा

हम भी क़ाएल हैं वफ़ा में उस्तुवारी के मगर
कोई पूछे कौन किस को उम्र भर अच्छा लगा

अपनी अपनी चाहतें हैं लोग अब जो भी कहें
इक परी-पैकर को इक आशुफ़्ता-सर अच्छा लगा

'मीर' के मानिंद अक्सर ज़ीस्त करता था 'फ़राज़'
था तो वो दीवाना सा शाइर मगर अच्छा लगा

- Ahmad Faraz
3 Likes

Basant Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Basant Shayari Shayari