dasht o junoon ka silsila mere lahu mein aa gaya | दश्त ओ जुनूँ का सिलसिला मेरे लहू में आ गया - Ahmad Khayal

dasht o junoon ka silsila mere lahu mein aa gaya
ye kis jagah pe main tumhaari justuju mein aa gaya

vo sarv-qaamat ho gaya hai dekhte hi dekhte
jaane kahaan se zor sa us ki numoo mein aa gaya

bas chand lamhe pesh-tar vo paanv dho ke palta hai
aur noor ka sailaab sa is aabjoo mein aa gaya

chaaron taraf hi titliyon ke raqs hone lag gaye
tu aa gaya to baagh saara rang-o-boo mein aa gaya

main jhoomte hi jhoomte ahmad tamasha ban gaya
jab aks us ke raqs ka mere suboo mein aa gaya

दश्त ओ जुनूँ का सिलसिला मेरे लहू में आ गया
ये किस जगह पे मैं तुम्हारी जुस्तुजू में आ गया

वो सर्व-क़ामत हो गया है देखते ही देखते
जाने कहाँ से ज़ोर सा उस की नुमू में आ गया

बस चंद लम्हे पेश-तर वो पाँव धो के पल्टा है
और नूर का सैलाब सा इस आबजू में आ गया

चारों तरफ़ ही तितलियों के रक़्स होने लग गए
तू आ गया तो बाग़ सारा रंग-ओ-बू में आ गया

मैं झूमते ही झूमते 'अहमद' तमाशा बन गया
जब अक्स उस के रक़्स का मेरे सुबू में आ गया

- Ahmad Khayal
0 Likes

Raqs Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Raqs Shayari Shayari