tujhe kho kar bhi tujhe paau jahaan tak dekhoon | तुझे खो कर भी तुझे पाऊँ जहाँ तक देखूँ - Ahmad Nadeem Qasmi

tujhe kho kar bhi tujhe paau jahaan tak dekhoon
husn-e-yazdaan se tujhe husn-e-butaan tak dekhoon

tu ne yun dekha hai jaise kabhi dekha hi na tha
main to dil mein tire qadmon ke nishaan tak dekhoon

sirf is shauq mein poochi hain hazaaron baatein
main tira husn tire husn-e-bayaan tak dekhoon

mere veeraana-e-jaan mein tiri yaadon ke tufail
phool khilte nazar aate hain jahaan tak dekhoon

waqt ne zehan mein dhundla diye tere khud-o-khaal
yun to main tootte taaron ka dhuaan tak dekhoon

dil gaya tha to ye aankhen bhi koi le jaata
main faqat ek hi tasveer kahaan tak dekhoon

ik haqeeqat sahi firdaus mein huroon ka vujood
husn-e-insaan se nimat luun to wahan tak dekhoon

तुझे खो कर भी तुझे पाऊँ जहाँ तक देखूँ
हुस्न-ए-यज़्दाँ से तुझे हुस्न-ए-बुताँ तक देखूँ

तू ने यूँ देखा है जैसे कभी देखा ही न था
मैं तो दिल में तिरे क़दमों के निशाँ तक देखूँ

सिर्फ़ इस शौक़ में पूछी हैं हज़ारों बातें
मैं तिरा हुस्न तिरे हुस्न-ए-बयाँ तक देखूँ

मेरे वीराना-ए-जाँ में तिरी यादों के तुफ़ैल
फूल खिलते नज़र आते हैं जहाँ तक देखूँ

वक़्त ने ज़ेहन में धुँदला दिए तेरे ख़द-ओ-ख़ाल
यूँ तो मैं टूटते तारों का धुआँ तक देखूँ

दिल गया था तो ये आँखें भी कोई ले जाता
मैं फ़क़त एक ही तस्वीर कहाँ तक देखूँ

इक हक़ीक़त सही फ़िरदौस में हूरों का वजूद
हुस्न-ए-इंसाँ से निमट लूँ तो वहाँ तक देखूँ

- Ahmad Nadeem Qasmi
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Nadeem Qasmi

As you were reading Shayari by Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari