ham apne-aap mein rahte hain dam mein dam jaise | हम अपने-आप में रहते हैं दम में दम जैसे - Ajmal Siraj

ham apne-aap mein rahte hain dam mein dam jaise
hamaare saath hon do-chaar bhi jo ham jaise

kise dimaagh junoon ki mizaaj-pursi ka
sunega kaun guzarti hai shaam-e-gham jaise

bhala hua ki tira naqsh-e-paa nazar aaya
khird ko raasta samjhe hue the ham jaise

meri misaal to aisi hai jaise khwaab koi
mera vujood samajh leejie adam jaise

ab aap khud hi bataayein ye zindagi kya hai
karam bhi us ne kiye hain magar sitam jaise

हम अपने-आप में रहते हैं दम में दम जैसे
हमारे साथ हों दो-चार भी जो हम जैसे

किसे दिमाग़ जुनूँ की मिज़ाज-पुर्सी का
सुनेगा कौन गुज़रती है शाम-ए-ग़म जैसे

भला हुआ कि तिरा नक़्श-ए-पा नज़र आया
ख़िरद को रास्ता समझे हुए थे हम जैसे

मिरी मिसाल तो ऐसी है जैसे ख़्वाब कोई
मिरा वजूद समझ लीजिए अदम जैसे

अब आप ख़ुद ही बताएँ ये ज़िंदगी क्या है
करम भी उस ने किए हैं मगर सितम जैसे

- Ajmal Siraj
1 Like

Ghayal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ajmal Siraj

As you were reading Shayari by Ajmal Siraj

Similar Writers

our suggestion based on Ajmal Siraj

Similar Moods

As you were reading Ghayal Shayari Shayari