sar mein sauda-e-wafa rakhte hain | सर में सौदा-ए-वफ़ा रखते हैं - Akhtar Saeed Khan

sar mein sauda-e-wafa rakhte hain
ham bhi is ahad mein kya rakhte hain

vaasta jis ka tire gham se na ho
ham vo har kaam utha rakhte hain

bin khili ek kali pahluu mein
ham bhi ai baad-e-saba rakhte hain

but-kade waalo tumhein kuchh bolo
vo to chup hain jo khuda rakhte hain

ghairat-e-ishq koi raah nikaal
zulm vo sab pe rawa rakhte hain

kya saleeqa hai sitamgaari ka
rukh pe daaman-e-haya rakhte hain

chaara-saazaan-e-zamaana ai dil
zahar dete hain dava rakhte hain

naghma-e-shauq ho ya naala-e-dil
dard-mandaana sada rakhte hain

dil ki ta'aamir ko dhaa kar akhtar
vo mohabbat ki bina rakhte hain

सर में सौदा-ए-वफ़ा रखते हैं
हम भी इस अहद में क्या रखते हैं

वास्ता जिस का तिरे ग़म से न हो
हम वो हर काम उठा रखते हैं

बिन खिली एक कली पहलू में
हम भी ऐ बाद-ए-सबा रखते हैं

बुत-कदे वालो तुम्हें कुछ बोलो
वो तो चुप हैं जो ख़ुदा रखते हैं

ग़ैरत-ए-इश्क़ कोई राह निकाल
ज़ुल्म वो सब पे रवा रखते हैं

क्या सलीक़ा है सितमगारी का
रुख़ पे दामान-ए-हया रखते हैं

चारा-साज़ान-ए-ज़माना ऐ दिल
ज़हर देते हैं दवा रखते हैं

नग़्मा-ए-शौक़ हो या नाला-ए-दिल
दर्द-मंदाना सदा रखते हैं

दिल की ता'मीर को ढा कर 'अख़्तर'
वो मोहब्बत की बिना रखते हैं

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari