jaan di kis ke liye ham ye bataayein kis ko | जान दी किस के लिए हम ये बताएँ किस को - Akhtar Saeed Khan

jaan di kis ke liye ham ye bataayein kis ko
kaun kya bhool gaya yaad dilaayein kis ko

jurm ki tarah mohabbat ko chhupa rakha hai
ham gunahgaar nahin hain ye bataayein kis ko

rooth jaate to manana koi dushwaar na tha
vo ta'alluq hi na rakhen to manaae kis ko

kaun deta hai yahan khwaab-e-junoon ki ta'beer
khwaab ham apne sunaayein to sunaayein kis ko

koi pursaan-e-wafa hai na pasheemaan-e-jafaa
zakham ham apne dikhaayein to dikhaayein kis ko

chaak-e-dil chaak-e-garebaan to nahin hum-nafso
ham ye tasveer sar-e-bazm dikhaayein kis ko

kaun is shehar mein sunta hai fughan-e-durvish
apni aashufta-bayaani se rulaayein kis ko

ho gaya khaak rah-e-koo-e-malaamat akhtar
raah par laayein jo ahbaab to laayein kis ko

जान दी किस के लिए हम ये बताएँ किस को
कौन क्या भूल गया याद दिलाएँ किस को

जुर्म की तरह मोहब्बत को छुपा रक्खा है
हम गुनहगार नहीं हैं ये बताएँ किस को

रूठ जाते तो मनाना कोई दुश्वार न था
वो तअ'ल्लुक़ ही न रक्खें तो मनाएँ किस को

कौन देता है यहाँ ख़्वाब-ए-जुनूँ की ता'बीर
ख़्वाब हम अपने सुनाएँ तो सुनाएँ किस को

कोई पुरसान-ए-वफ़ा है न पशीमान-ए-जफ़ा
ज़ख़्म हम अपने दिखाएँ तो दिखाएँ किस को

चाक-ए-दिल चाक-ए-गरेबाँ तो नहीं हम-नफ़सो
हम ये तस्वीर सर-ए-बज़्म दिखाएँ किस को

कौन इस शहर में सुनता है फ़ुग़ान-ए-दुर्वेश
अपनी आशुफ़्ता-बयानी से रुलाएँ किस को

हो गया ख़ाक रह-ए-कू-ए-मलामत 'अख़्तर'
राह पर लाएँ जो अहबाब तो लाएँ किस को

- Akhtar Saeed Khan
1 Like

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari