gham-e-zamaana nahin ik azaab hai saaqi | ग़म-ए-ज़माना नहीं इक अज़ाब है साक़ी - Akhtar Shirani

gham-e-zamaana nahin ik azaab hai saaqi
sharaab la meri haalat kharab hai saaqi

shabaab ke liye tauba azaab hai saaqi
sharaab la mujhe paas-e-shabaab hai saaqi

utha piyaala ki gulshan pe phir barsne lagi
vo may ki jis ka qadah mahtaab hai saaqi

nikaal parda-e-meena se dukhtar-e-raz ko
ghatta mein kis liye ye mahtaab hai saaqi

tu waizoon ki na sun may-kashon ki khidmat kar
gunah savaab ki khaatir savaab hai saaqi

zamaane-bhar ke ghamon ko hai daawat-e-gharraa
ki ek jaam mein sab ka jawaab hai saaqi

kalaam jis ka hai meraaj haafiz-o-khayyaam
yahi vo akhtar-e-khaana-kharaab hai saaqi

ग़म-ए-ज़माना नहीं इक अज़ाब है साक़ी
शराब ला मिरी हालत ख़राब है साक़ी

शबाब के लिए तौबा अज़ाब है साक़ी
शराब ला मुझे पास-ए-शबाब है साक़ी

उठा पियाला कि गुलशन पे फिर बरसने लगी
वो मय कि जिस का क़दह माहताब है साक़ी

निकाल पर्दा-ए-मीना से दुख़्तर-ए-रज़ को
घटा में किस लिए ये माहताब है साक़ी

तू वाइ'ज़ों की न सुन मय-कशों की ख़िदमत कर
गुनह सवाब की ख़ातिर सवाब है साक़ी

ज़माने-भर के ग़मों को है दावत-ए-ग़र्रा
कि एक जाम में सब का जवाब है साक़ी

कलाम जिस का है मेराज 'हाफ़िज़'-ओ-'ख़य्याम'
यही वो 'अख़्तर'-ए-ख़ाना-ख़राब है साक़ी

- Akhtar Shirani
0 Likes

Gunaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shirani

As you were reading Shayari by Akhtar Shirani

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shirani

Similar Moods

As you were reading Gunaah Shayari Shayari