dil se khayal-e-dost bhulaaya na jaayega | दिल से ख़याल-ए-दोस्त भुलाया न जाएगा - Altaf Hussain Hali

dil se khayal-e-dost bhulaaya na jaayega
seene mein daagh hai ki mitaaya na jaayega

tum ko hazaar sharm sahi mujh ko laakh zabt
ulfat vo raaz hai ki chhupaaya na jaayega

ai dil raza-e-ghair hai shart-e-raza-e-dost
zinhaar baar-e-ishq uthaya na jaayega

dekhi hain aisi un ki bahut mehrabaaniyaan
ab ham se munh mein maut ke jaaya na jaayega

may tund o zarf-e-hausla-e-ahl-e-bazm tang
saaqi se jaam bhar ke pilaaya na jaayega

raazi hain ham ki dost se ho dushmani magar
dushman ko ham se dost banaya na jaayega

kyun chhedte ho zikr na milne ka raat ke
poochhenge ham sabab to bataaya na jaayega

bigdein na baat baat pe kyun jaante hain vo
ham vo nahin ki ham ko manaaya na jaayega

milna hai aap se to nahin hasr gair par
kis kis se ikhtilaat badhaaya na jaayega

maqsood apna kuchh na khula lekin is qadar
ya'ni vo dhoondte hain jo paaya na jaayega

jhagdon mein ahl-e-deen ke na haali pade bas aap
qissa huzoor se ye chukaaya na jaayega

दिल से ख़याल-ए-दोस्त भुलाया न जाएगा
सीने में दाग़ है कि मिटाया न जाएगा

तुम को हज़ार शर्म सही मुझ को लाख ज़ब्त
उल्फ़त वो राज़ है कि छुपाया न जाएगा

ऐ दिल रज़ा-ए-ग़ैर है शर्त-ए-रज़ा-ए-दोस्त
ज़िन्हार बार-ए-इश्क़ उठाया न जाएगा

देखी हैं ऐसी उन की बहुत मेहरबानियाँ
अब हम से मुँह में मौत के जाया न जाएगा

मय तुंद ओ ज़र्फ़-ए-हौसला-ए-अहल-ए-बज़्म तंग
साक़ी से जाम भर के पिलाया न जाएगा

राज़ी हैं हम कि दोस्त से हो दुश्मनी मगर
दुश्मन को हम से दोस्त बनाया न जाएगा

क्यूँ छेड़ते हो ज़िक्र न मिलने का रात के
पूछेंगे हम सबब तो बताया न जाएगा

बिगड़ें न बात बात पे क्यूँ जानते हैं वो
हम वो नहीं कि हम को मनाया न जाएगा

मिलना है आप से तो नहीं हस्र ग़ैर पर
किस किस से इख़्तिलात बढ़ाया न जाएगा

मक़्सूद अपना कुछ न खुला लेकिन इस क़दर
या'नी वो ढूँडते हैं जो पाया न जाएगा

झगड़ों में अहल-ए-दीं के न 'हाली' पड़ें बस आप
क़िस्सा हुज़ूर से ये चुकाया न जाएगा

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Dushman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Dushman Shayari Shayari